Friday, March 30, 2012

यार/गद्दार


हमारे उपनिषदो  मे लिखा है , सच्चा दोस्त पाना बहुत बड़ी बात है , और कुलषित दोस्त एक जहर है |
जिनका जहर धीरे -धीरे असर करता है , आज के युग मे दोस्त की  परिभाषा  बदल कर स्वार्थ हो गयी है , |
सच्चा मित्र सुख -दुख मे समान कार्य करता है ,जो पाप से हटता है , भलाई के काम मे अपने को लगाता है , गुप्त बात को छिपाता है , गुणो को प्रकट करता है ,| आपत्ति मे पड़ने पर भी नहीं छोडता , बल्कि समय पड़ने पर साथ देता है , सज्जन लोग अच्छे मित्रो के ये लक्षण बताते है ,|
पर ये सब बाते उस व्यक्ति पर लागू नहीं होती जिसका दिल लोट जाता है ,दोस्ती से संबंधित तमाम कहानिया है , जैसे ;- बंदर-मगरमच्छ , ऊट-गीदड़ , सारस-लोमड़ी , शेर -चूहा , बिल्ली -बंदर ,बकुला-मछली , पंचतंत्र संग्रह और हितोपदेश की कहानिया जो तमाम अलग-अलग पहलुवों को बताती है ,|

परंतु अच्छी दोस्ती पर बहुत कम कहानिया मिलती है , जो बताती है , अच्छे -सच्चे स्वार्थरहित दोस्त बहुत कम है वो भी भाग्य से मिलते है ,मेरे अनुभव से आज के दोस्त टांग -खिचते है ,|
जाते -जाते यही की दोस्त ही होते है जो गलत होकर भी हमे  सिखाते है ,सो दोस्ती करने से डरना नहीं चाहिए ..।
अंत मे यही की ये फोटो बनारस के सबसे मक्कार व्यक्ति की है , इसने मुझे केरल के टूर मे जाने से पहले जहर मिला खाना पैक कर के दे दिया , ताकि रास्ते मे ही काम हो जाए और शक भी न हो , कोई बताएगा मैंने इस कमीने का क्या बिगड़ा है ,|



लेखक;- सुभाषितिनी ...रविकान्त यादव

No comments:

Post a Comment